Breaking News

उर्जान्चल पुलिस के संरक्ष्ण में चल रहा है “सीकेडी” का बेधड़क काला कारोबार-के सी शर्मा

“हकीकत का आईंना”-!

शक्तिनगर।सोनभद्र

उर्जान्चल में संचालित एनसीएल की परियोजनाओ में सीकेडी माफियाओ का आतंक अब सर चढ़ कर बोल रहा है और इनका जरायम का काला कारोबार वेधड़क, वेख़ौफ़ जारी है।

विश्वत सूत्रों के अनुसार सिगरौली व सोनभद्र जिले के अंतर्गत उर्जान्चल में एनसीएल कीझिगुरदह,दुधिचुआ,जयंत,
बीना,ककरी,खडिया,जयंत,
निगाही,अमलोरी गोरबी आदि अन्य परियोजनाओ में इन दिनों डीजल,कबाड़, कोयला की ताबड़तोड़ चोरियां हो रही
है।
उर्जान्चल की पुलिस और
एनसीएल प्रबंधन या तो सब कुछ जानते हुवे अनजान बने बैठा है,या फिर बंदर बाट में शामिल लोग इतने शतिर है कि वो पुलिस और प्रबंधन को भी अंधेरे में रखें हुये है।
एनसीएल के सुरक्षा बिभाग से जुड़े ओहदेदार अधिकारीयो के अनुसार खदानों से चोरिया अभी फिलहाल बंद है।जबकि उन्ही खदानों से की गई डीजल व कबाड़ की चोरी पुलिस द्वारा बराबर पकड़ी जा रही हैं।डीजल कबाड़ चोरो पर मोरवा पुलिस द्वारा की गई ताबड़तोड़ कार्यवाई ने यह साबित कर दिया है कि एनसीएल खदानों में इनदिनों भयंकर चोरिया हो रही है।
अभी कुछ ही दिनों पहले की घटना है,मोरवा पुलिस को मुखबिरों द्वारा सूचना प्राप्त हुई थी कि एनसीएल खदान से भारी मात्रा में डीजल की चोरी हो रही है।जिसे सरगना रोजाना सैकड़ों लीटर डीजल खदानों से चोरी कर अपने निजी वाहन से बार्डर पार कर रहे है।मिली जानकारी के अनुसार घात लगाए बैठे मोरवा पुलिस ने सीमावर्ती इलाके के खनहना बैरियर के पास से मुख्य सरगना बाबूराम जायसवाल पिता दयाशंकर जायसवाल निवासी कौवा नाला थाना अनपरा।साथ मे समय लाल कोल जो एक लंबे समय से एनसीएल के खदानों में डीजल चोरी का कार्य करता था,जिसे पकड़कर गिरफ्तार करते हुए उसके पास से एक बोलेरो गाड़ी समेत 250 लीटर डीजल जप्त किया था।
अब सवाल यह उठता है की एनसीएल करोड़ो रूपये खर्च कर खदानों से चोरी रोकने हेतु सुरक्षा जवानो की तैनाती की हैं, इसके बावजूद खदान से प्रतिदिन लाखों रुपये के डीजल व कबाड़, कोयला आदि की चोरिया हो जा रही है आखिर क्यों!क्या इस क्यो का जबाब या खदानों से चोरी हुये सामानों का लेखा जोखा एनसीएल के जिम्मेदार अधिकारियों और उर्जान्चल कि पुलिस के पास है?क्या जिम्मेदारो ने कभी निजी सुरक्षा एजेंसी से आजतक यह जानने की कोशिश की,कि खदान छेत्र की सुरक्षा को लेकर प्रबंधन करोड़ो रूपये खर्च कर रहा है,इसके बाद भी खदान छेत्र से चोरिया क्यो हो रही है?खदानों से हो रही लाखो करोड़ो रूपये के डीजल व कबाड़ की चोरी का जिम्मेदार निजी सुरक्षा एजेंसी को मानते हुए क्या अभीतक इनपर कोई कार्यवाई की गई?
अगर नही की गई तो इसका जिम्मेदार कौन?
आज यह यक्ष प्रश्न बन हर एक के सामने खड़ा है?जिस पर सब की नजरें टिकी हुई हैं।
कहते हैं कि इस जरायम के कारोबार को उर्जान्चल की पुलिस वे ख़ौफ़ संरक्ष्ण देती रहती है, तो क्या इनके आका जिले के अधिकारियों को इसका पता नही होता है क्या? यह कहना बहुत ही कठिन है, लेकिन वे भी सवालों के कठघरे में खड़े तो रहते ही है।
स्थानीय नागरिकों ने पुलिस अधीक्षक सोनभद्र/ सिंगरौली का इस ओर ध्यान आकृष्ट कराया है।

Check Also

पुलवामा हमले की तरह सुरक्षाबलों की गाड़ियों से विस्फोटक भरी कार को टकराने का था प्लान, जैश-हिज्बुल की साजिश इस तरह हुई नाकाम

🔊 इस खबर को सुने Deepak Dubey दीपक दुबे जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों …